वाराणसी पुल हादसे में 20 की मौत : शवों की सौदेबाजी का वीडियो वारयल, पोस्टमार्टम के बदले मांगे पैसे, आरोपी सस्पेंड

वाराणसी/लखनऊ। कैंट रेलवे स्टेशन के पास निमार्णाधीन फ्लाईओवर का एक हिस्सा मंगलवार शाम करीब 5: 20 बजे गिर पड़ा। इस हादसे में लोगों की मौत के बाद पूरे देश में शोक की लहर है। इस बीच हादसे के कुछ घंटे बाद अस्पताल में भ्रष्टाचार में डूबे सिस्टम का वीभत्स चेहरा देखने को मिला, जहां एक सफाई कर्मचारी हादसे में मारे गए लोगों का शव देने के बदले परिजनों से 200 रुपए की मांगता दिखा। मामले में वीडियो वायरल हुआ तो डीएम साहब ने कार्रवाई कर आरोपी को सस्पेंड कर दिया।

डीएम ने की कार्रवाई
बीएचयू के सर सुंदर लाल अस्पताल की मॉर्चरी में तैनात सफाई कर्मचारी ने मृतकों के परिजनों को शव देने के एवज में 200 रुपए की मांग की। जिसके बाद आक्रोशित परिजन भड़क गए। वहां मौजूद कुछ लोगों ने मोबाइल से इसका वीडियो भी बना लिया. देखते ही देखते वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया।

उधर, वीडियो के वायरल होते ही जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। मामले में डीएम योगेश्वर राम मिश्रा ने सफाई कर्मचारी बनारसी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। अधिकारियों ने मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका जतायी है।

लापरवाही से हुआ हादस
हादसे के घंटों बाद माना जा रहा है कि निमार्णाधीन पुल के नीचे अभी भी लोग दबे हुये हैं। कई क्रेन को मलबा हटाने के काम में लगाया गया है। यह हादसा शाम चार बजे के करीब वाराणसी – इलाहाबाद की ओर जाने वाले राजमार्ग पर हुआ। जिला प्रशासन ने बताया कि नौ लोग घायल हुये हैं लेकिन गैर आधिकारिक खबरों के मुताबिक करीब 20 लोग घायल हुये हैं।

अधिकारियों ने बताया कि एक मिनी बस और चार कार मलबे के नीचे दब गये। पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने बताया कि आठ से 10 मोटरसाइकिल भी इसकी चपेट में आए हैं। उप्र के राहत आयुक्त संजय कुमार ने लखनऊ में बताया कि वाराणसी फ्लाईओवर के घटनास्थल से 18 शव बरामद हुए हैं।

करीब 250 कर्मचारियों सहित राष्ट्रीय आपदा मोचन बल ( एनडीआरएफ ) की पांच टीम घटनास्थल के लिए रवाना हो गयी है। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल ( एनडीआरएफ ) के एक अधिकारी ने बताया कि कम से कम तीन लोगों को सुरक्षित बचाया गया। अधिकारी ने बताया कि उत्तर प्रदेश पुल निर्माण निगम इस 2261 मीटर लंबे फ्लाईओवर का निर्माण 129 करोड़ की लागत से कर रहा था।

फ्लाईओवर का जो हिस्सा गिरा है , उसे तीन महीने पहले ही बनाया गया था। मुख्य परियोजना प्रबंधक एच सी तिवारी और तीन अन्य को आज देर रात निलंबित कर दिया गया था।

अधिकारियों ने बताया कि निमार्णाधीन पुल का एक हिस्सा जब ढहा , उस वक्त कोई काम नहीं चल रहा था। प्रधानमंत्री एवं स्थानीय सांसद नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात करके स्थिति का जायजा लिया और हादसे में मारे गये लोगों के परिजन के प्रति संवेदना व्यक्त की। साथ ही प्रभावित लोगों की हर सम्भव मदद सुनिश्चित करने को कहा।

उपराष्ट्रपति ने जताया दु:ख
उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू ने ट्वीट कर हादसे में मारे गए लोगों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। लखनऊ में एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी ने घटना पर दुख व्यक्त करते हुए उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को मौके पर भेजा है।

 

48 घंटे में रिपोर्ट देन का निर्देश

निर्देश पर मामले की उच्चस्तरीय जांच के लिये कृषि उत्पादन आयुक्त राज प्रताप सिंह की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है , जो 48 घंटे के अंदर मामले की तकनीकी जांच , दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के प्रस्ताव के साथ अपनी रिपोर्ट उपलब्ध करायेगी। योगी ने राज्य सरकार की तरफ से मृतकों के परिजन को पांच – पांच लाख रुपये तथा घायलों को दो – दो लाख रुपये की सहायता का एलान भी किया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय आपदा राहत बल , पुलिस और अन्य संगठनों को राहत कार्य के लिये वाराणसी रवाना कर दिया गया है।

अखिलेश यादव ने जताया दु:ख
इस बीच , सपा अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने वाराणसी में हुए हादसे में लोगों को बचाने के लिये अपनी पार्टी के कार्यकतार्ओं से बचाव दल के साथ पूरा सहयोग करने की अपील की। उन्होंने यह भी कहा कि वह सरकार से अपेक्षा करते हैं कि वह केवल मुआवजा देकर अपनी जिम्मेदारी से भागने के बजाय पूरी ईमानदारी से जांच करवायेगी। पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा राहत बल को मौके पर भेजा गया है और पुलिस तथा पीएसी बल भी पहुंच रहा है। उन्होंने बताया कि मलबे से निकाले जाने वाले घायलों को अस्पताल पहुंचाने के लिये इंतजाम किया जा रहा है।

इसी तरह की खबर