लव, सेक्स और धोखे में मिलीं किरन को तीन गोली!

लखीमपुरखीरी। पुरूष प्रधान भारतीय राजनीति में जिस रफ्तार से महिलाएं आगे बढ़ रही हैं, ठीक वैसे ही यहां महिलाओं को राजनीति में शीर्ष पर पहुंचने से पहले धराशायी भी कर दिया जाता है। ताजा उदाहरण यूपी के लखीमपुर में किरन वर्मा नामक जिला पंचायत सदस्य की हत्या का है। वेवफाई के चलते किरन वर्मा की उसके प्रेमी ने ही गोली मारकर हत्या कर दी।

बहराइच निवासी किरन वर्मा एक सुंदर सुशिक्षित, समाज सेवी के अलावा बहुजन और पिछड़ों की प्रिय नेता थीं। किरन को समाज सेवा के साथ-साथ कविताएं लिखने का भी शोक था। किरन ने सबसे पहले बहुजन समाज पार्टी के जरिए राजनीति में एंट्री की, लेकिन अपनी समाज सेवा के दम पर वह निर्दलीय प्रत्याशी के तौर जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीतने में सफल रहीं। साल 2014 में शादी-शुदा होने के बावजूद अमर सिंह का किरन वर्मा से प्रेम प्रसंग शुरू हो गया।

जिसके बाद अमर सिंह ने अपनी पहली पत्नी को छोड़कर किरन से विवाह कर लिया था। अमर सिंह कानपुर के पशु विभाग में सरकारी कर्मचारी हैं। दोनों की जिंदगी बड़ी सिद्दत से गुजर रही थी। इसी बीच एक दिन लखीमपुर के विकास भवन में किरन वर्मा की मुलाकात शिवेंद्र प्रताप सिंह हो गई। शिवेंद्र प्रताप सिंह ने खुद को एक पत्रकार कम पार्टी का मीडिया प्रभारी बताया था।

जिसके बाद एक बेटे के पिता शिवेंद्र प्रताप सिंह और किरन वर्मा के बीच छोटी सी मुलाकात गहरी दोस्ती में बदल गई,जो बाद में प्रेम संबंधों तक पहुंच गई। अक्सर किरन वर्मा और शिवेंद्र सिंह एक दूसरे से मिलते रहते थे,जबकि अमर सिंह राना को यह अच्छा नहीं लगता था। जिसके चलते किरन वर्मा शिवेंद्र प्रताप सिंह से कन्नी काटने लगी,लेकिन शिवेंद्र प्रताप ने किरन वर्मा का पीछा करना नहीं छोड़ा। चार मई को किरन वर्मा पति अमर सिंह के साथ अपनी ननद के घर आई हुई थी।

कुछ घंटे बाद वहां शिवेंद्र प्रताप भी पहुंच गया और किरन से बात करने लगा। इसी बीच शिवेंद्र प्रताप ने किरन वर्मा पर रिवाल्वर से गोलियों चला दीं। अमर सिंह किरन को बचाने आया तो शिवेंद्र उस पर भी हमला कर फरार हो गया। परिजन किरन को अस्पताल ले गए, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। दरअसल किरन चार माह की गर्भवती थी। पुलिस ने उसके भ्रूण को सुरक्षित रख लिया है। भ्रूण के डीएनए टेस्ट से ही उसके पिता का खुलास हो सकेगा।

वहीं अमर सिंह को अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस ने किरन हत्या कांड के बारे में अमर सिंह से जानकारी जुटाई। अमर सिंह द्वारा शिवेंद्र प्रताप सिंह के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट और हत्या का केस दर्ज कराया गया। मामले को लेकर लखीमपुर के एसपी राम लाल ने बताया कि आरोपी शिवेंद्र प्रताप सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। अवैध संबंधों में जहां एक महिला की जान चली गई, वहीं दूसरी ओर बच्चे के सिर से मां का साया और पति से पत्नी का साथ छूट गया। इनके अलावा हत्यारोपी शिवेंद्र प्रताप सिंह जेल की सजा काटेगा। अवैध संबंध चाहे कितने भी गहरे हों, उनकी खोखली बिसात पर मजबूत इबारत खड़ी नहीं हो सकती।