मृत शरीर की श्मशान शादी

 

फिजी एक खूबसूरत देश है। यह 350 द्वीपों से बना हुआ है। फिजी में बड़ी सख्या में भारतीय मूल के लोग रहते हैं।

 

 

अपनी अजीबो-गरीब परंपरा के लिए भी फिजी विश्व में जाना जाता है।  फिजी में देवी ‘नंग-नंग’ की पूजा की जाती है।
फिजी में मान्यता है कि बिना विवाह के जो मर जाते हैं। उनकी आत्माओं को देवी सताती रहती है।

 

इसी डर से फिजी में श्मशान विवाह की परंपरा है। यह परंपरा सदियों से जारी है। मृत शरीर का श्मशान में विवाह पुरोहित द्वारा कराया जाता है। इन पुरोहितों को मध्यवर्ती कहा जाता है। पुरोहित मृत अविवाहितों के रिश्ते तय करते है।

पुरोहित दोनों परिवारों से खाने की चीजें, कपड़े आदि लेकर कब्रों के पास जाते है। विधि विधान से मृत वर-बधू की शादी कराते हैं। विवाह से मृत वर-वधू की आत्मा का शांति मिले न मिले लेकिन पुरोहित धनवान बन रहे हैं।

 

इसी तरह की श्मशान शादी की परंपरा अफ्रीका में है।
वहां घने जंगलों में रहने वाले आदिवासियों में मृत वर-वधू की शादी की परंपरा है।
अगर कोई कुंवारी लड़की मर जाए तो उस लड़की का विवाह उसके पहले ही मर चुके कुंवारे लड़के के साथ श्मशान में कर दिया जाता है। इसी तरह अगर लड़का मर जाए तो उसका श्मशान विवाह किया जाता है।

 

इसी तरह की खबर