बाबरी मस्जिद विध्वंस की यादें हुर्इं ताजा

अयोध्या। बाबरी मस्जिद का नाम आते ही जेहन में आज के 25 साल पहले की घटना की यादें ताजा हो जाती हैं। तब उस समय पत्रकारों का जमघट और कर्फ्यू लगा हुआ था। ऐसे हालात में एक होटल मालिक अनंत कुमार कपूर ने पत्रकारों के खाने-पीने की अतिरिक्त व्यवस्था की। अपनी सफेद रंग की एंबेसडकर कार से उन्होंने उनके लिए दूसरी जरूरी वस्तुएं मंगाई थी।
इकहत्तर बसंत देख चुके कूपर फैजाबाद के जाने-माने होटल शान-ए-अवध के निदेशकों में से एक हैं। अयोध्या फैजाबाद जिले के अंतर्गत ही आता है। उस समय कर्फ्यू के दौरान देश के ही नहीं विदेश के पत्रकार भी घटना को कवर करने के लिए जमा हुए थे।
बाबरी मस्जिद विध्वंस छह दिसंबर, 1992 को हुआ था। कपूर बताते हैं कि उस समय जमा हुए कार सेवकों ने 16वीं सदी में बनी बाबरी मस्जिद ढहा दी थी। इस घटना से पूरा देश प्रभावित था। जगह-जगह हंगामे, प्रदर्शन व जयश्रीराम के नारे लग रहे थे। इसके बाद दंगे हुए और अयोध्या कफ्यू के आगोश में आ गया। कपूर बताते हैं कि कफ्यू लगाने का आदेश जिला प्रशासन ने जारी किया था।

इसी तरह की खबर