कलवरी सेना में शामिल, पीएम मोदी ने कहा हिन्द महासागर में बढ़ेगा भारत का रूतबा

मुंबई, भाषा। भारतीय नौसेना के इतिहास में एक नया अध्याय जुड़ गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरूवार को स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बी कलवरी का अनावरण किया। भारतीय नौसेना में शामिल करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा इससे भारत की ताकत हिन्द महासागर में बढ़ेगी।


कलवरी के अनावरण के अवसर पर आयोजित समारोह में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, नौसेना अध्यक्ष एडमिरल सुनील लांबा एवं अन्य शीर्ष अधिकारी मौजूद रहे।

इस सुनहरे मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कलवरी मेक इन इंडिया स्टॉर्टअप का शानदार उदहारण है। यह भारतीय नौसेना की ताकत को बड़े मुकाम तक ले जाएगी।

 


कलवरी पनडुब्बी का नाम हिंद महासागर के गहरे पानी में पाई जानी वाली एक खतरनाक टाइगर शार्क के नाम पर रखा गया है।

नौसेना के एक अधिकारी ने बताया कि इस पनडुब्बी को बेडे में शामिल करने से पहले 120 दिन तक गहरे पानी गहन परीक्षण किया गया है। कलवरी के विभिन्न उपकरणों का भी परीक्षण किया गया है।

 


कलवरी से भारतीय नौसेना और उसकी वाहन क्षमता में वढ़ोत्तरी होने की उम्मीद है। इस पनडुब्बी का डिजाइन फ्रांसीसी कंपनी और ऊर्जा कंपनी डीसीएनएस ने तैयार किया है। इसका निर्माण मुंबई स्थित मझगांव डॉक लिमिटेड के भारतीय नौसेना के प्रोजेक्ट-75 के तहत किया गया है।
देश की पहली कलवरी को आठ दिसंबर 1967 को नौसेना में शामिल किया गया था। यह भारतीय नौसेना की पहली पनडुब्बी थी। करीब तीन दशक अपनी सेवाएं देने के बाद 31 मई 1996 को इसने अपना काम बंद किया था।

इसी तरह की खबर