आश्रम में साध्वियों से अय्याशी करता रहा बाबा!

बस्ती। ऋषि-मुनियों के देश में आज बलात्कारी बाबाओं की बड़ी जमात तैयार हो गई है। गुरमीत राम रहीम और आशाराम पहले ही दुष्कर्म के आरोप में जेल की सलाखों के पीछे पहुंच चुके हैं।
अब बाबा सच्चिदानंद उर्फ दयानंद के जेल जाने की बारी है।  सच्चिदानंद और उनके शिष्यों पर चार साध्वियों ने दुष्कर्म का केस दर्ज कराया था। सच्चिदानंद की गिरफ्तारी के लिए पुलिस जगह-जगह दबिश दे रही है।
बता दें कि बस्ती में सच्चिदानंद उर्फ दयानंद बाबा का संत कुटीर आश्रम है। जिसमें प्रवचन सुनने के लिए बड़ी संख्या में महिलाएं और किशोरियां आती थीं। आश्रम में कुछ महिलाएं और लड़की भी साध्वियों के रुप में रहती हैं।
बीते वर्ष आश्रम की चार साध्वियों ने सच्चिदानंद और उनके शिष्यों पर 2008 से सामूहिक दुष्कर्म करने का केस दर्ज कराया था। एक साध्वी ने बताया कि बाबा के आश्रम में साध्वियों के साथ गंदा काम होता है।
जो साध्वी बाबा का विरोध करती हैं उनको जान से मारने की धमकी दी जाती है। साध्वी ने कहा कि यदि पुलिस ने सच्चिदानंद को गिरफ्तार नहीं किया तो वह फिर से आंदोलन करेंगी। साध्वियों ने एक बार फिर बस्ती के एसपी कार्यालय में शिकायत दे दी। दरअसल चार महीने बाद भी पुलिस सच्चिदानंद और उनके शिष्यों को गिरफ्तार नहीं कर पाई।
साध्वियों ने बस्ती के डीएम से भी सच्चिदानंद के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
बस्ती के डीएम ने कहा कि पुलिस को कानूनी कार्रवाई के निर्देश दे दिए हैं। उधर बस्ती के सीओ सिटी आलोक सिंह ने बताया कि फरार चल रहे सच्चिदानंद के आश्रम की कुर्की कर ली गई है। सच्चिदानंद को अखिल भारतीय अखड़ा परिषद पहले ही फर्जी बाबा घोषित कर चुका है। लेकिन पुलिस अभी तक सच्चिदानंद को गिरफ्तार नहीं कर पाई। जिससे लगता है कि शायद सच्चिदानंद को सियासी लोगों का सहारा मिल हुआ है।